pic3
The Below is my two cents of tribute in the form of a poem to the Martyre’s families for whom the pain begins only now. This poem also highlights the soft approach that the leaders of India irrespective of their political parties have taken against the anti-India groups. Hope this incident will awake the conscience of the leadership and this time we will not have a token operation followed by rounds of celebration only to pacify the public sentiments. The solution this time must be lasting and nothing short of an all out war for the destruction of Pakistan. This war is only inevitable and the delay will only raise the stakes.

अंतर्द्वंद

                       – अमिताभ पांडेय
फिर से वो ही आग जलेगी, फिर से वो पानी बरसेगा,
बबली का दिल रो रो कर फिर से पापा को तरसेगा ।
माँ के सूखी छाती भी सोचे मुन्ना कैसा होगा,
शायद निंदा करते नेता के मन में जिंदा होगा ।
फिर से आंगन में टूटी चूड़ी के अरमान दफन होंगे,
धुंधलाती आंखों वाली बूढ़ी लाठी पर खूब वज़न होंगे ।
टीवी के पर्दे पर फिर से आज वही नाटक होगा, 
कोई दल का नेता रूप बदल के फिर बैठा होगा ।
आग लगेगी शव में या फिर कफन दफन होगा,
इस बार तिरंगा पेटी के अंदर कौन अंग होगा ।
हाय किस्मत फूटी हम अलबेलों के मेले में,
खूब पसौरि दूध मलाई जयचंदों के ठेले में ।
हर बार यही सुनते हैं अब संग्राम बड़ा भीषण होगा,
नेता जी बदले हैं अब न कोई सूर्य ग्रहण होगा ।
सिसक सिसक कर बबली अपने मन को समझा लेती है,
और किताबों के पन्नों में खुद को फिर उलझा लेती है ।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: